उज्जैन से एनआईए ने कथित पीएफआई कार्यकर्ता को उठाया

उज्जैन, अग्निपथ। राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी यानी एनआईए ने उज्जैन से गुरुवार सुबह करीब 4 बजे एक युवक को पीएफआई कार्यकर्ताओं की धरपकड़ अभियान के तहत उठाया है। आगर नाका नंबर 5 स्थित आजाद नगर मदरसे से जमील पिता अजीज शेख नामक युवक को एनआईए साथ ले गई है। उस वक्त घर में जमील की मां और पत्नी हिना थे। जमील जाली फाटक बनाने का काम करता है।

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी यानी एनआईए और प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने गुरुवार सुबह इंदौर और उज्जैन से पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया यानी पीएफआई के 4 पदाधिकारियों को अरेस्ट किया है। इंदौर से पीएफआई के प्रदेशाध्यक्ष अब्दुल करीम बेकरीवाला, अब्दुल जावेद समेत एक अन्य को उठाया है। पकड़े गये आरोपियों के पास से कई तरह के संदिग्ध और भडक़ाऊ दस्तावेज भी जब्त किए हैं।

यह कार्रवाई इंदौर के सदर बाजार, छीपा बाखल और उज्जैन के चिमनगंज थाना क्षेत्र में की गई। एनआईए की कार्रवाई की पुष्टि स्वयं गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी की है। गुरुवार सुबह उन्होंीने मीडिया से कहा, कि एनआईए ने देशभर में कार्रवाई की है। करीब 100 लोगों को पकड़ा है। इंदौर में भी कार्रवाई की गई है। एनआईए की कार्रवाई के संबंध में उज्जैन पुलिस ने अनभिज्ञता जाहिर की है। एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ला के मुताबिक एनआईए की कार्रवाई के बारे में उन्हें जानकारी नहीं है।

परिजन बोले- हम बेकसूर, जमील को छोड़ा जाये

गुरुवार शाम को जमील की मां और पत्नी हिना अपने परिजनों के साथ एक ज्ञापन लेकर संभाग आयुक्त के कार्यालय पहुंचे। राष्ट्रपति के नाम संबोधित करीब तीन पेज के इस ज्ञापन में कहा गया है कि हम लोग किसी आपत्तिजनक गतिविधियों से नहीं जुड़े हैं। जमील को भी फंसाया जा रहा है। हमारे घर से कुछ भी ऐसा नहीं मिला है जो आपत्तिजनक हो। परिजनों ने मांग की है कि जमील को सुरक्षित रूप से छोड़ा जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

विक्रम के दस्तावेज चोर को कुलसचिव ने दबोचा

Thu Sep 22 , 2022
सामने आई अतिथि विद्वान की भूमिका, अब कार्यवाही की तैयारी उज्जैन, अग्निपथ। विक्रम विश्वविद्यालय से लगातार संवेदनशील दस्तावेज चोरी होने की घटनाओं की पड़ताल में गुरूवार को अहम मोड़ आ गया है। कुलसचिव ने विश्वविद्यालय के एक कर्मचारी से इस मामले में सख्ती से पूछताछ की तो उसने कई सारे […]