घरवाली का राज, पति कर रहे काज

कुर्सी पर बैठी रही पार्षद पत्नी, पति लेते रहे सरकारी कर्मचारियों की बैठक

उज्जैन, अग्निपथ। स्थानीय निकायों में महिलाओं को 50 प्रतिशत का आरक्षण भले ही मिल गया हो लेकिन राज उनके पति-पिता या भाई ही करते है। नगर निगम उज्जैन भी इससे अछूता नहीं है। नगर निगम के जोन क्रमांक 6 में हुई एक बैठक के कुछ फोटोग्राफ्स सोशल मीडिया पर खासे वायरल हुए है। इनमें एक पार्षद पत्नी कुर्सी पर बैठी है और बैठक प्रतिनिधि के रूप में पार्षद पति ले रहे है।

नगर निगम की एक जोन बैठक में पिछले दिनों एमआइसी सदस्य सुगन वाघेला की मौजूदगी में उनके पति और भाजपा नेता बाबूलाल वाघेला द्वारा बैठक लिए जाने के बाद महापौर मुकेश टटवाल द्वारा भी नाराजगी जाहिर की गई थी। जोन क्रमांक 6 में फिर से ऐसा ही कारनामा हुआ है।

दरअसल, मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान के तहत निगम द्वारा आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व कर्मचारियों के सहयोग से घर-घर दस्तक देकर लोगों को शासन की योजनाओं संबंधी जानकारी और उन्हें इन योजनाओं का लाभ दिलाने की मुहीम चल रही है। इसी अभियान के तहत वार्ड नंबर 48 की पार्षद अंशु गोपाल अग्रवाल द्वारा जोन क्रमांक 6 में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की एक ली गई।

इस बैठक में जोन के प्रभारी हर्ष जैन भी मौजूद थे। बैठक में पार्षद अंशु अग्रवाल तो कुर्सी पर बैठी रही और पास की कुर्सी पर बैठे उनके पति गोपाल अग्रवाल आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को दिशा-निर्देश देते रहे। नगर निगम के जोन प्रभारी हर्ष जैन भी उनकी हां में हां मिलाते रहे।

खास बात यह है कि यह बैठक शासकीय भवन में, शासकीय कर्मचारियों की थी जिसमें जनप्रतिनिधि के नाते अंशु अग्रवाल तो मौजूद रह सकती थी लेकिन गोपाल अग्रवाल तो बैठक में बैठने की भी पात्रता नहीं रखते थे। इसके ठीक उलट वे दिशा-निर्देश देते रहे।

इनका कहना

यह किसी तरह की बैठक नहीं थी, हम आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से परिचय लेने गए थे। वे फील्ड में काम रही है, उन्हें किस तरह की दिक्कते आ रही है, यही समझने का प्रयास कर रहे है। इसे गलत रूप में न देखा जाए। – गोपाल अग्रवाल, पार्षद प्रतिनिधि, वार्ड नंबर 48

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

धाकड़ की विदाई का सही कारण किसी को नहीं मालुम

Thu Sep 22 , 2022
उज्जैन, अग्निपथ। विश्व प्रसिद्ध श्री महाकालेश्वर मंदिर में पहली बार बिना प्रशासनिक अधिकारी को बैठाए बगैर नियुक्ति पाने वाले पूर्व प्रशासक गणेश कुमार धाकड़ का तबादला होने के बाद मीडिया सहित सभी अपने अपने स्तर पर उनको पदच्यूत होने की कहानी गढ़ रहे हैं। लेकिन किसी को भी सही तरह […]