नगर निगम के कार्यपालन यंत्री ने दिया इस्तीफा, ग्रुप से हुए लेफ्ट

नगर निगम

उज्जैन, अग्निपथ। नगर निगम के कार्यपालन यंत्री लीलाधर दोराया ने सोमवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। सोमवार को स्थापना शाखा में उन्होंने अपना इस्तीफा दिया और इसके बाद नगर निगम के विभागीय सभी ग्रुप से भी खुद का नंबर लेफ्ट कर लिया। दोराया पूर्व आयुक्त अंशुल गुप्ता के कार्यकाल में भी नौकरी छोडऩे का मन बना चुके थे लेकिन तब उन्हें आयुक्त ने रोक लिया था।

कार्यपालन यंत्री लीलाधर दोराया के पास फिलहाल नगर निगम में कई महत्वपूर्ण प्रभार है। निगम में इस वक्त केवल तीन ही कार्यपालन यंत्री मौजूद है। इनमें से अनिल जैन लंबी छुट्?टी पर है, लीलाधर दोराया ने इस्तीफा दे दिया है। अब केवल पी.सी. यादव ही शेष बचे है, उनके पास प्रधानमंत्री आवास योजना के काम का भार है। बतौर प्रभारी कार्यपालन यंत्री साहिल मैदावाला को भी प्रभार मिला हुआ है, जबकि वे सहायक यंत्री है। लीलाधर दोराया इससे पहले भी नगर निगम में काम करने की अनिच्छा जाहिर कर चुके थे। पूर्व आयुक्त अंशुल गुप्ता ने उन्हें रोक लिया था। सोमवार को उन्होंने अपने इस्तीफे के साथ ही वेतन का एडवांस चेक भी जमा करा दिया।

शिकायत पर नहीं हुई सुनवाई

पिछले दिनों उद्यान विभाग में पदस्थ बाबू मुकेश अजमेरी के विरूद्ध कार्यपालन यंत्री लीलाधर दोराया ने आयुक्त को शिकायत की थी। दोराया का आरोप था कि अजमेरी ने खुद के उपस्थिति पत्रक पर उनके जाली हस्ताक्षर किए है। इसका प्रमाण भी दोराया ने उपलब्ध कराया था, कार्यपालन यंत्री स्तर के अधिकारी की शिकायत को भी नगर निगम में हल्के स्तर पर लिया गया। मामले में किसी तरह की कार्यवाही नहीं हुई। इसके बाद से ही दोराया व्यथित चल रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

पुलिस कस्टडी से भागने पर महिला को सजा

Mon Nov 21 , 2022
उज्जैन,अग्निपथ। धोखाधड़ी के केस की विचाराधीन कैदी करीब डेए़ साल पहले जिला अस्पताल से भाग गई थी। कोतवाली में दर्ज इस प्रकरण में सोमवार को कोर्ट ने फैसला सुनाया। मामले में न्यायालय ने दोषी महिला को सजा सुनाई है। घटनानुसार नागझिरी स्थित साईंधाम कॉलोनी निवासी सुनीता उर्फ सोनाली पति नंदलाल […]