इंदौर में एसबीआई क्रेडिट कार्ड के नाम पर ठगी

फार्मा कर्मचारी और महिला को बनाया निशाना, झारखंड-नोएडा के खातों ट्रांसफर हुए रुपए

इंदौर, अग्निपथ। इंदौर के एरोड्रम इलाके में क्रेडिट कार्ड ठगी के दो मामले में सामने आए हैं। इसमें क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल हुए बिना ही एक फार्मा कंपनी कर्मचारी के खाते से रुपए ट्रांसफर हो गए। वहीं दूसरी तरफ कार्ड बंद कराने के नाम पर महिला से ठगी कर दी गई।

पहला मामला फार्मा कंपनी में काम करने वाले राजेश भदकारे निवासी सुखदेव नगर का है। उन्होंने बताया कि नवबंर 2022 में उनके मोबाइल पर लगातार क्रेडिट कार्ड से 45 हजार से अधिक के अमाउंट को लेकर कन्फर्म करने के लिए ओटीपी आ रहे थे। उन्होंने उक्त ओटीपी को किसी से साझा नही किया। कुछ दिन बाद उन्हें अपना क्रेडिट स्कोर ठीक करने के लिए मैसेज आया।

जब उसे देखा तो पता चला कि 45 हजार से अधिक की अमाउंट पेटीएम रिटेल नोएडा के खाते में ट्रांसफर हुई है। उन्होंने मामले में एसबीआई के टोल फ्री नंबर पर जानकारी दी। इसके बाद भी मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई और बैंक की तरफ से पेमेंट जमा करने के लिए मैसेज और मेल आने लगे। उक्त मामले में जनवरी 2023 में साइबर सेल में शिकायत की गई। जिसके बाद पुलिस ने मैसेज भेजने वाले के खिलाफ गुरुवार को केस दर्ज किया।

एसबीआई की फर्जी लिंक से उड़ाए रुपए

दूसरा मामला मनीषा वाजपेयी का है। वह संगम नगर में रहती हैं। पुलिस को की गई शिकायत में मनीषा ने बताया कि दिसंबर 2022 में उनके मोबाइल पर शाम को एक कॉल आया। जिसमें उन्हें बताया गया कि उनके एसबीआई क्रेडिट कार्ड को बंद करवाने की आखिरी तारिख है। अगर कार्ड बंद नहीं करवाया तो इसके बदले उनके एसबीआई अकाउंट से अमाउंट कट जाएगा।

मनीषा ने कार्ड का कभी उपयोग नहीं किया था और उसे एक्टिव भी नही किया था। लेकिन उन्हें लगा कि कार्ड बिना उपयोग के भी चालू रहता है। इसके बाद कॉलर ने एसबीआई की एक लिंक शेयर की। जिस पर हूबहू एसबीआई का साइन बना हुआ था। उस पर लिंक करने के बाद एक ओटीपी आया। जो कॉलर ने पूछा। ओटीपी की जानकारी देते ही क्रेडिट कार्ड से करीब 46 हजार से अधिक का अमाउंट ट्रांसफर हो गया।

बैंक की तरफ से उन्हें जनवरी 2023 में कॉल आना शुरू हुए। जिसके बाद उन्होंने कस्टमर केयर पर पूरी जानकारी दी। इसके बाद पुलिस साइबर हेल्पलाइन में शिकायत की। जिसमें पता चला कि अमाउंट किसी कलाम अंसारी निवासी पठार घटिया, झारखंड के अकाउंट में ट्रांसफर हुए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

2022 में 50 लोगों के देहदान के साथ इंदौर बना अव्वल, 10 कॉलेजों को मिली सुविधा

Sat Jan 21 , 2023
प्रदेश के 10 मेडिकल कॉलेजों में छात्र कर रहे रिसर्च इंदौर, अग्निपथ। स्वच्छता में देशभर में छह बार अव्वल, वाटर प्लस, वैक्सीनेशन, ऑर्गन्स डोनेशन सहित कई मामलों में अग्रणी इंदौर अब देह दान में भी नंबर वन बनता जा रहा है। हाल ही में जैन समाज की एक 80 वर्षीय […]