पर्यावरण व खेल सुविधा पर लगा ‘सीएम राइज’ का ग्रहण

1

बडऩगर (अजय राठौड़), अग्निपथ। शासन-प्रशासन जन हित में योजनाओं को लागू करता है। जिससे आमजन व योजना के पात्रों को लाभ मिलता है। और इसी लाभ को विकास कहा जाता है। किन्तु कहीं विकास के लिए विनाश की अनदेखी जानबूझ कर की जाती है तो शासन-प्रशासन के अमले पर प्रश्न उठते है। इन्हीं प्रश्नों का समाधान चाहने के लिए संबंधित पिडि़तजन को मजबूरन गुहार लगाना पड़ती है।

यहां बात की जा रही है नगर के एक मात्र शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मैदान पर निर्माण होने वाले सीएम राइज स्कूल की। नया स्कूल बनाने के लिए पर्यावरण व खेल मैदान की सुविधा पर ग्रहण लगने वाला है। शासन-प्रशासन सीएम राइज स्कूल की सुविधा देकर यहां के पर्यावरण (पेड़ो) व खेल मैदान की सुविधा सहीत प्राचीन धरोहर आदि को छिन रहा है। इस समस्या के निदान के लिए नगर के जागरूक जन ने शासन-प्रशासन सहित जन प्रतिनिधियों का दरवाजा खटखटाने की ठानी है। अब देखना है कि इस समस्या के निदान के लिए शासन – प्रशासन के नुमाइंदे पर्यावण व खेल सुविधा आदि को बचाने के लिए लगाई जा रही गुहार पर कितना , कैसे व कब तक ध्यान देते है। या फिर विनाश कर विकास की इबारत लिखते है।

150 से अधिक पेड़ों की चढ़ेगी बलि

शासन जनभागीदारी का प्रचार प्रसार करता है। जिससे आमजन सहयोगकर्ता इस और आकर्षित होते है। यही कारण रहा की नगर के पर्यावरण प्रेमियों के स्वयं के सहयोग से इस स्कुल की सीमा रेखा के सहारे 150 से अधिक पेड़ को लगाने की महज औपचारिकता को पुरा नही किया गया वरन उनको प्रतिदिन खाद-पानी देकर बड़ा किया गया है। जो सिलसिला कोरोना काल में भी नहीं थमा। यह पेड़ हरियाली के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि होकर स्कूल का सौंदर्य बढ़ा रहे है जो कई लोगों के लिए प्रेरणा भी है। बताया जा रहा है कि स्कूल निर्माण के लिए इन 150 पेड़ों की बलि भी दी जाएगी।

खेल मैदान भी होगा खत्म …?

स्कूल का यह नामचीन खेल मैदान नगर की पहचान है। जहां पर खेल में रूची रखने वाले नगर एवं ग्रामीण के खिलाडिय़ों द्वारा नियमित रूप से अभ्यास किया जाता है। जिनमें से कई प्रतिभाओं ने प्रदेश व देश में बडऩगर का नाम रोशन किया है। किन्तु इस निर्माण से खेल मैदान खत्म होगा व तमाम खेल मैदान की सुविधा छिन जायेगी। जिससे खिलाडियों व खेल प्रेमियों को निराश होना पडेगा।

इमारत व स्टेडियम भी होगा ध्वस्त

इसी विद्यालय से सेवानिवृत्त शिक्षक शिवपाल जी द्वारा सेवानिवृत्ति पर मिली राशि में से विद्यालय परिसर में छात्रों की सुविधा के लिए एक हॉल का निर्माण किया गया था। जिससे छात्र लाभान्वित हो रहे है। शासन ने यहीं 45 लाख रुपए की लागत से स्टेडियम का निर्माण किया गया है। जो सीएम राइड स्कूाल के नए नक्शे के अंतर्गत खत्म किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री शिवराज देंगे ध्यान….?

उपरोक्त कारण बताते हुए विद्यालय की इस प्राचीन धरोहर, भवन, खेल मैदान तथा पर्यावरण को बचाने हेतु सीएम राईज स्कूल का निर्माण अन्यत्र स्थान पर किया जाने को लेकर जागरूक जन द्वारा समिति के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश शासन भोपाल सहित प्रतिलिपि शिक्षा मंत्री, सांसद, प्रभारी मंत्री, विधायक, नगर पालिकाध्यक्ष, पूर्व विधायक, मुख्य सचिव स्कूल शिक्षा, जिलाधीश, अनुविभागीय अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी, प्राचार्य सीएम राईज विद्यालय को प्रेषित कर उक्त सीएम राईज स्कुल का निर्माण अन्य स्थान पर करने या इन सुविधाओं को संरक्षित कर नक्शे में परिवर्तन कर निर्माण करने की गुहार लगाई है। उपरोक्त जानकारी देते हुए समिति के माध्यम से जारी प्रेस नोट में कहा गया कि यदि शासन – प्रशासन के नुमाइंदो द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया जाता है तो समिति द्वारा चरणबद्ध रूप से आंदोलन किया जावेगा ।

स्वास्थ्य लाभ लेने वालो को भी होगी हानि

नगर का एक मात्र बड़ा खेल मैदान होने व हरियाली होने से यहां पर प्रतिदिन सेहत बनाने वाले महिला, पुरूष , युवा , बच्चे प्रात: एवं सायंकाल में स्वच्छ हवा के लाभ के साथ दौडने एवं टहलने बड़ी संख्या में आते है। जिनके लिऐ यह स्थान स्वच्छ व सुरक्षित है। यह सुविधा भी खत्म हो जावेगी वहीं प्रधानमंत्री जनस्वास्थ्य योजना के तहत यहां स्थापित ओपन जिम का निर्माण किया गया है वो भी खत्म हो जाएगा ।

One thought on “पर्यावरण व खेल सुविधा पर लगा ‘सीएम राइज’ का ग्रहण

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

स्टेयरिंग फैल होने से युवक पर चढ़ी बस, मौके पर मौत

Tue Nov 8 , 2022
मृतक के भाई ने खुद पर कैरोसीन डालकर आत्महत्या करने के किए प्रयास झाबुआ, अग्निपथ। शहर के मध्य बस स्टैंड पर 8 नवंबर, मंगलवार को दोपहर ठीक 12.45 बजे एक दर्दनाक हादसा हुआ। जिसमें एक निजी माही बस के स्टेयरिंग फैल होने से चालक वाहन से नियंत्रण खो बैठा और […]