स्वीकृति के एक वर्ष बाद भी राजस्व विभाग अस्पताल के लिए नहीं दे सका जमीन

निर्माण एजेंसी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की ही सीमित जगह पर ही सिविल अस्पताल का भवन निर्माण करने के प्रयास में

नलखेड़ा, अग्निपथ। नगर में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिविल अस्पताल में उन्नयन हुए लगभग 1 वर्ष से अधिक हो गया है। उसके बाद भी सिविल अस्पताल भवन निर्माण के लिए राजस्व विभाग अभी तक शासकीय भूमि उपलब्ध नहीं करा पाया है। जबकि भवन निर्माण के लिए शासन ने राशि भी मंजूर कर दी है।

सुसनेर विधानसभा क्षेत्र के विधायक राणा विक्रम सिंह के अथक प्रयासों से सरकार ने नलखेड़ा में 30 बिस्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का 50 बिस्तरीय सिविल अस्पताल मे उन्नयन किया है। जिसकी स्वीकृति 23 जून 2021 को स्वास्थ्य मंत्रालय ने दे दी थी। लेकिन स्वीकृति के 1 वर्ष बाद भी स्थानीय राजस्व विभाग की अकर्मण्यता के चलते सिविल अस्पताल के लिए शासकीय भूमि आवंटित नहीं हुई है। इसके चलते सिविल अस्पताल भवन का निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया है।

अस्पताल भवन निर्माण के लिए 10 करोड़ मंजूर

शासन द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को सिविल अस्पताल में तब्दील करने के बाद 1 अगस्त 2022 को सिविल अस्पताल के भवन निर्माण हेतु 10 करोड़ रुपए की राशि की राज्य शासन द्वारा स्वीकृति प्रदान की गई है। अस्पताल भवन निर्माण की राशि की स्वीकृति के बाद भी भूमि के अभाव में सिविल अस्पताल भवन निर्माण का कार्य प्रारंभ नहीं हुआ है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की सीमित भूमि पर ही सिविल अस्पताल भवन निर्माण करने के प्रयास
जिस भूमि पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बना हुआ है वह भूमि नाले और लखुंदर नदी से लगी हुई है तथा गड्ढे में भी है। इसके कारण अत्यधिक बारिश के चलते आई बाढ़ से कई बार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पानी भर जाता है। वही निर्माण एजेंसी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की भूमि पर सिविल अस्पताल भवन निर्माण करना चाहती है। वह भूमि सीमित है और उसके पास रिक्त पड़ी जमीन का प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है। इसके साथ साथ वहां ना तो पार्किंग की जगह है है ना ही पर्याप्त भूमि है।

नगर के मध्य कई बेशकीमती जमीने भू माफियाओं के कब्जे में

ऐसा नहीं है कि सिविल अस्पताल भवन निर्माण के लिए नगर के मध्य शासकीय जमीन उपलब्ध नहीं है नगर में कई शासकीय भूमि हैं लेकिन राजस्व विभाग की लापरवाही और निष्क्रियता के चलते शासन की बेशकीमती कई भूमि पर भू माफियाओं का कब्जा है। लेकिन राजस्व विभाग के अधिकारी उक्त शासकीय भूमि को मुक्त कराने में अपने आप को असहाय महसूस कर रहे हैं। यही कारण है कि सिविल अस्पताल भवन निर्माण के लिए नगर में शासकीय भूमि नहीं मिल रही है।

सुसनेर में सिविल अस्पताल भवन निर्माण का हुआ भूमि पूजन

नगर में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिविल अस्पताल मे तब्दील करने की स्वीकृति सुसनेर और नलखेड़ा दोनों को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा एक साथ ही दी गई थी लेकिन गत दिनों सुसनेर में सिविल अस्पताल भवन निर्माण का भूमि पूजन क्षेत्र के विधायक राणा विक्रमसिंह एवं भाजपा के जिला अध्यक्ष गोविंदसिंह बरखेड़ी द्वारा किया गया लेकिन नलखेड़ा में शासकीय भूमि के अभाव में नगर में सिविल अस्पताल भवन निर्माण का भूमि पूजन नहीं हो पाया है।

नहीं लगा एसडीएम का फोन

इस संबंध में एसडीएम सोहन कनास से चर्चा के लिए उनका मोबाइल फोन लगाया तो उन्होंने मोबाइल रिसीव नहीं किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

उज्जैन से एनआईए ने कथित पीएफआई कार्यकर्ता को उठाया

Thu Sep 22 , 2022
उज्जैन, अग्निपथ। राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी यानी एनआईए ने उज्जैन से गुरुवार सुबह करीब 4 बजे एक युवक को पीएफआई कार्यकर्ताओं की धरपकड़ अभियान के तहत उठाया है। आगर नाका नंबर 5 स्थित आजाद नगर मदरसे से जमील पिता अजीज शेख नामक युवक को एनआईए साथ ले गई है। उस वक्त […]