भारत के परिपक्कव हो चुके 75 वर्षीय लोकतंत्र के जागरूक भारतीय मतदाताओं ने देश के राजनैतिक दलों को ऐसी चोट दी है कि ना उनसे रोते बन रहा है ना ही हँसते। देश के दो प्रमुख राजनैतिक दल भारतीय जनता पार्टी एवं काँग्रेस के साथ ही आम आदमी पार्टी को […]

138 वर्ष पुरानी काँग्रेस पार्टी जिसकी देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका रही थी वर्तमान में शायद सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। यदि यह कहा जाए कि राजनैतिक रूप से वह वेन्टीलेटर पर होकर गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती है तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। किसी समय पूरे […]

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी और सरदार पटेल की कर्मभूमि रहे गुजरात का इतिहास पाषाण युग की बस्तियों के साथ शुरू होता है। भूतकाल में इसे गुर्जर प्रदेश के नाम से जाना जाता था। छठीं शताब्दी से लेकर 12वीं सदी तक यहाँ गुर्जर राजाओं का राज रहा है इस कारण इसका नाम […]

जहाँ घटने थे फासले सिमटनी थी दूरियां वहीं कैसे समां गयी हंसती-खेलती जिंदगियां… 30 अक्टूबर की मनहूस शाम गुजरात के मोरबी जिले की 134 हंसती- खेलती जिंदगियों को लील गयी। दुर्भाग्य की बात यह है कि मृतकों में अधिकांश अबोध बच्चे और महिलाएं थी। 4 हजार 872 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल […]

(अर्जुन सिंह चंदेल) सिंहस्थ के लिए कई योजनाओं में फेरबदल करना जरूरी बाबा महाकाल के आशीर्वाद से और प्रदेश के मुख्यमंत्री के सदप्रयासों से उज्जैन की दशा बदलने के संकेत प्रारंभ हो गये हैं। उज्जैन को स्वर्ग जैसा बनाने की मुख्यमंत्री की परिकल्पना साकार होती नजर आ रही है। बीते […]

बीते कुछ दिनों से इस पौराणिक नगरी (उज्जैन) के निवासियों के आराध्य देव, मृत्युलोक के राजा, देवो के देव, भूतभावन बाबा महाकाल का आँगन, बारह ज्योतिर्लिंग में से एक विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर का परिसर अल्पबुद्धि राजनैतिक नेता कार्यकर्ताओं की हरकतों के कारण देश भर में चर्चा का विषय बना […]

6 अगस्त का दिन भी मेरी पुरातन उज्जैयिनी के इतिहास में अंकित हो गया है। शहर को 4 लाख 30 हजार मतदाताओं ने आने वाले 1825 दिनों (5 वर्षों) के लिये नगर सरकार को सौंप दी है। कल से नयी नवेली नगर सरकार का कार्यकाल शुरू हो गया है या […]

सोमवार को राजाधिराज महाकालेश्वर की द्वितीय सवारी में भोले के भक्तों की जनमैदिनी ने प्रशासनिक व्यवस्थाओं एवं संभावनाओं को धता बताते हुए सारे रिकार्ड तोड़ दिये। भोले भंडारी के भक्तों ने कल आने वाले उज्जैन की तस्वीर बयां कर दी जिसके कारण अधिकारियों के माथे पर चिंता की लकीरें दिखायी […]

उज्जैन नगर निगम महापौर के चुनाव परिणाम पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय है। अप्रत्याशित परिणामों ने इस धारणा को और अधिक बल दिया है कि राजनीति में कर्म से ज्यादा भाग्य प्रधान होता है, वर्ष 2005 में महापौर पद के लिये हुए चुनाव में भी सोनी मेहर जी ने […]

त्रेता युग में प्रभु राम द्वारा रावण का अंत इसलिये किया था कि उसने अहंकार के वश में होकर राजधर्म, सदाचरण, नीति, सत्य धर्म का साथ छोडक़र अधर्म का मार्ग अपनाया था। रावण की लंका को श्रीराम के सेवक हनुमान ने रावण के पाप, सीता के संताप, विभीषण के जाप […]